गर्मी ने अपना रंग अभी से दिखाना शुरू कर दिया है। ऐसी चिलचिलाती धूप और गर्मी से राहत पाने के लिए सभी लोग ठंडी ठंडी चीज खाना और पीना पसंद करते हैं।

गर्मियों में अधिक ठंडा पानी पीना हो सकता है खतरनाक! क्या आप जानते हैं इसके साइड इफैक्ट्

गर्मी ने अपना रंग अभी से दिखाना शुरू कर दिया है। ऐसी चिलचिलाती धूप और गर्मी से राहत पाने के लिए सभी लोग ठंडी ठंडी चीज खाना और पीना पसंद करते हैं। इतनी गर्मी में बाहर से आकर सीधे फ्रिज का दरवाजा खोलकर ठंडी-ठंडी बोतल निकाल कर पानी पीने की आदत अधिकतर लोगों की होती है।

हां इसे पी लेने से कुछ पल के लिए राहत जरूर मिल जाती है लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह रहता सिर्फ थोड़ी देर की ही होती है। और इस राहत के साथ-साथ आपको यह ठंडा ठंडा पानी कितना नुकसान कर सकता है। बहुत कम ही लोगों में जिन्हें यह पता भी होगा कि चिल्ड वाटर या बर्फ का ठंडा ठंडा पानी हमारे शरीर को बहुत सारे नुकसान पहुंचता है।

चिल्ड वाटर से होने वाले गंभीर नुकसान-

1) पाचन क्रिया के लिए नुकसानदायक-

ठंडे पानी का सबसे बड़ा साइड इफेक्ट हमारे पेट में जाकर पाचन क्रिया को खराब करना है। नियमित रूप में ठंडा पानी पीने से खाना ठीक ढंग से नहीं पचता है और फिर हमारे पेट में गैस, उल्टी, मतली, कब्ज और पेट फूलने जैसी प्रॉब्लमस् हो जाती हैं। ऐसा होने का कारण यह है कि ठंडा पानी हमारे पेट में जाकर हमारे शरीर के तापमान से मैच नहीं करता है इसलिए खाना पचने में दिक्कत होती है।

2) सर दर्द और साइनस की प्रॉब्लम-

अगर आप हद से ज्यादा ठंडा पानी पीते हैं तो आपको ब्रेन फ्रीज की समस्या भी फेस करनी पड़ सकती है। जरूर से ज्यादा ठंडा पानी हमारी बॉडी की सेंसिटल हड्डियों को ठंडा कर देता है। जिसका सीधा असर दिमाग पर पड़ता है और हमें साइनस या सिर दर्द जैसी प्रॉब्लम से गुजरना पड़ता है।

3) वजन बढ़ना-

अगर आप वजन घटाने की कोशिश कर रहे हैं तो भूल कर भी ठंडा पानी न पिए क्योंकि ठंडा पानी पीते ही आपके शरीर में मौजूद सेट और सख्त हो जाता है और फिर फैट बर्न करने में बहुत प्रॉब्लम आती है इसलिए चाह कर भी ना करें ऐसी गलती।

4) गले में संक्रमण-

अधिक ठंडा पानी और आइसक्रीम हमारे गले के लिए बहुत ही नुकसानदायक होता है। अधिक ठंडा पानी पीने से हमारे गले में खराश और कंजेशन की प्रॉब्लम हो जाती है। खाना खाने के बाद ठंडा पानी तो बहुत ही नुकसानदायक है क्योंकि यह ज्यादा बलगम बनाता है। और रेस्पिरेटरी ट्रेक्ट में जमा होकर सूजन संबंधी संक्रमण की वजह बनता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *